शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है – teacher day kyo manaya jata hai

शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है : भारत में हर स्कुल में शिक्षक दिवस (teacher day) मनाया जाता है। आपके स्कुल में भी कई बार शिक्षक दिवस मनाया जाता होगा। क्या आपको पता है
शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है। आज की पोस्ट में हम आपको यह सब बता रहे शिक्षक दिवस (shikshak diwas) क्यों मनाया जाता है। इसकी जानकारी दे रहे है।

शिक्षक दिवस को महान शिक्षक दिवस डा. सर्वपल्‍ली राधा कृष्णन के जन्म के तौर पर मनाया जाता है। डा. सर्वपल्‍ली राधा कृष्णन के जन्मदिन 5 सितंबर को इस दिन को मनाया जाता है। राजनीति में आने से पूर्व उन्होंने अपने जीवन के महत्वपूर्ण 40 वर्ष शिक्षक के रूप काम किया। उनमें एक आदर्श शिक्षक के सारे गुण मौजूद थे। उन्होंने अपना जन्म दिन अपने व्यक्तिगत नाम से मनाने के बजाय उन्होंने अपना जन्म दिन को सम्पूर्ण शिक्षक बिरादरी को सम्मानित किये जाने के उद्देश्य से शिक्षक दिवस के रूप में मनाने की इच्छा व्यक्त की थी।
जिस कारण पुरे भारत देश में 5 सितम्बर को प्रति वर्ष शिक्षक दिवस के नाम से ही मनाया जाता है। इस दिन समस्त देश में भारत सरकार द्वारा श्रेष्ठ शिक्षकों को पुरस्कार भी प्रदान किया जाता है।

कौन थे सर्वपल्‍ली राधा कृष्णन
5 सितम्बर 1888 – 17 अप्रैल 1975) भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति (1952 – 1962) और द्वितीय राष्ट्रपति रहे। इसके साथ वह एक शिक्षक भी थे। इन्हें सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न 1954 में सम्मान भी प्राप्त है।
डॉ॰ राधाकृष्णन का जन्म तमिलनाडु के एक तिरूतनी ग्राम में हुआ था। जो तत्कालीन मद्रास से लगभग 64 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इनका जन्म 5 सितम्बर 1888 को हुआ था। इन्होंने जन्म ब्राह्मण परिवार में जन्म लिया था।

  • डॉ॰ राधाकृष्णन के संस्थानिक सेवा कार्यों की जानकारी
  • सन् 1931 से 36 तक आन्ध्र विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर रहे।
  • ऑक्सफ़र्ड विश्वविद्यालय में 1936 से 1952 तक प्राध्यापक रहे।
  • कलकत्ता विश्वविद्यालय के अन्तर्गत आने वाले जॉर्ज पंचम कॉलेज के प्रोफेसर के रूप में 1937 से 1941 तक कार्य किया।
  • यह सन् 1939 से 48 तक काशी हिन्दू विश्‍वविद्यालय के चांसलर रहे।
  • 1953 से 1962 तक दिल्ली विश्‍वविद्यालय के चांसलर रहे।
  • 1946 में युनेस्को में भारतीय प्रतिनिधि के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। teacher day manaya jata hai
Updated: June 29, 2018 — 12:17 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

kya hai © 2018