उत्तर प्रदेश का सबसे छोटा जिला कौनसा है – uttar pradesh ka sabse chota jila

Uttar Pradesh ka sabse chota jila : भारत में बहुत ही कम है। जो जानते हे उत्तर प्रदेश का सबसे छोटा जिला का नाम है। आज हम क्षेत्रफल की दृष्टि से और जनसँख्या की दृष्टि दोनों की जानकारी दे रहे है।

  • क्षेत्रफल की दृष्टि से उत्तर प्रदेश का सबसे छोटा जिला
  • जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश का सबसे छोटा जिला


क्षेत्रफल की दृष्टि से
उत्तर प्रदेश का सबसे छोटा जिला का नाम सन्त रविदास है। इसे भदोही जिला के नाम से भी जाना जाता है। यह इलाहाबाद और वाराणसी के बीच मे स्थित है। इसे 30 जून 1994 में भदोही को उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले से अलग करके यूपी के 65 वा जिला बनाया गया। लेकिन बाद में यूपी में मायावती सरकार ने इसका नाम संत रविदास नगर रख दिया था फिर 06 दिसम्बर 2015 को up के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पुनः भदोही नाम रख दिया है।

यह ज़िला “कारपेट सिटी ” के नाम से विश्व में प्रसिद्ध है।
यह ज़िला अपने कालीन उद्योग के कारण विश्‍व में अत्‍यन्‍त प्रसिद्ध है।
इस जिले में कुल 3 तहसीलें हैं जिनका नाम भदोही, औराई, ज्ञानपुर है। साथ ही इसमे 6 मंडल है।
इस जिले में तीन तहसील भदोही औराई, ज्ञानपुर और 6 मंडल (ब्लाक) भदोही औराई, ज्ञानपुर, सुरियावां, डीघ और अभोली है।
भदोही जिला इलाहाबाद और वाराणसी के बीच स्थित है जिसका मुख्यालय ज्ञानपुर में है। यूपी का सबसे छोटा जिला
इस जिले में कुल 1,353,705 जनसँख्या है।
इसमें प्रति व्यकित 1,200/km2 रहते है।
यहाँ गाड़ियां का UP-66 है।
यहां के पिनकोड नंबर 221401 है।

जनसंख्या की दृष्टि से
जनसँख्या की दृष्टि से महोबा जिला उत्तर प्रदेश ( uttar pradesh ) का सबसे छोटा जिला है। पहले इस जगह को महोत्सव नगर के नाम से जाना जाता था, लेकिन बाद में इसका नाम बदल कर महोबा रख दिया गया।

महोबा जहां एक ओर विश्व प्रसिद्ध खजुराहो के लिए प्रसिद्ध है और गोरखगिरी पर्वत, ककरामठ मंदिर, सूर्य मंदिर, चित्रकूट और कालिंजर आदि के लिए भी विशेष रूप से जाना जाता है।
महोबा जिला वायु मार्ग, रेल मार्ग, सड़क मार्ग तीनो से जुड़ा हुआ है।
यहाँ के पिनकोड 210427 और गाड़ियां के नंबर UP 95 है। up ka sabse chota jila

उत्तर प्रदेश का पुराना नाम क्या था।
उत्तर प्रदेश में कितनी भाषा बोली जाती है।

यह महत्वपूर्ण जानकारी कैसी लगी आप अपने दोस्तों तक शेयर जरूर करे।

Updated: July 1, 2018 — 5:40 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

kya hai © 2018